मशहूर पत्रकार निराला उर्फ़ बिदेशिया जब मेरे गांव आए

Bidesia Rang
निराला

पत्रकारिता तो सभी करते हैं पर इसे जीता कोई-कोई ही है. एक ऐसे ही बिहारी पत्रकार हैं निराला जो कि पत्रिका तहलका,पटना से जुड़े हैं. इनकी खासियत यह है कि ये अच्छा कलमची व खबरची होने के साथ ही भोजपुरी एक्टिविस्ट भी हैं. साथ ही घुमक्कड़ स्वभाव के, अव्वल दर्जे के साहित्यिक पढ़ाकू व सरोकारी भी. किसी ज़माने में रंगमंच के माहिर खिलाड़ी रहे निराला फिलहाल फेसबुक पर Bidesia Rang के नाम से सक्रिय हैं. इनका पैतृक घर तो सासाराम है. लेकिन पले-बढ़े ननिहाल औरंगाबाद के एक गांव में. बीएचयू से पढ़ाई के बाद इन्होंने मिशन के तौर पर पत्रकारिता की शुरूआत की. 

पहले प्रभात खबर और अब तहलका, जहां गए इन्होंने प्रतिभा की छाप छोड़ी. ग्रास रूट पत्रकारिता के पक्ष में जितनी इनकी दीवानगी है. उतना ही भोजपुरी भाषा व संस्कृति के प्रति भी पैशनेट हैं. और… सबसे बड़ी बात यह कि एक बार जो निराला से मिल ले इनका फैन जरूर हो जाता है. एक खबर की तलाश में निराला पिछले वर्ष 12 में  मेरे गांव कनछेदवा भी आ चुके हैं. मेरे चाचा प्रभात समाजसेवी हैं और जेपी आंदोलन के साक्षी रहे हैं. उन्हीं के बुलावे पर वे आए थे. उन्हें यह जानकर हैरानी हुई कि इस छोटे से गांव में विनोबा भावे, कुलदीप नैयर से लेकर प्रख्यात फिल्म निर्माता-निर्देशक प्रकाश झा भी आ चुके हैं. जब मैंने उन्हें कहा कि महत्वपूर्ण आगंतुकों की इस सूची भी अब आप भी शामिल हो चुके हैं. तो वे मुस्कुराए बिना न रह सके. बस इतना ही कहा, भाई मैं इन महानुभावों की तुलना में अभी नौसिखुआ ही हूं 

Admin

भोजपुरिया माटी में जन्म लिया. जब से होश संभाला लोगों को जड़ों से कटते पाया. वर्षों से पढ़ते-लिखते हुए यहीं सीखा, इंसान दुनिया में कहीं भी चला जाए. कितनी भी तरक्की कर ले. मां, मातृभाषा और मातृभूमि को त्याग कर खुशहाल नहीं रह सकता. इसीलिए अपनी भाषा में, अपने लोगों के लिए, अपनी बात लिखता हूं !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *