…तो क्यों नहीं साहित्यिक पंडों की लेखन शैली का भाषाई श्राद्ध करा दें?

रचनात्मक लेखन की कश्ती पर सवार हिंदी के युवा साहित्यकारो, जरा ध्यान दीजिए… 
————————————————————————————–
साथियों, चाहे क्षेत्र कला का हो या… साहित्य का, बाजार में बिकता कंटेंट ही है. कुछ नयेपन की तलाश में कब कौन सी रचना खरीदार के दिल को छू जाए, कौन सा कंटेंट हिट हो जाए, कहना मुश्किल है! लेकिन अहम सवाल यह है कि हिंदी पर आधारित फिल्मों, न्यूज़ चैनलों, अखबारों व गीतों की मांग चरम पर है. फिर, अंग्रेजी की तुलना में हिंदी साहित्य क्यों पिछड़ जाता है? क्या वजह है कि हिंदी भाषी लेखक भी अंग्रेजी में खिलंदड़े तरीके से लिखकर ‘बेस्ट सेलर’ का ख़िताब पा लेता है. एक सफल किताब से अंग्रेजी लेखक करोड़ों रूपए बटोर लेता है. जबकि कई सारी प्रतिभाएं हिंदी में उम्दा लिखते हुए भी फांका-कस्सी करने को मजबूर हैं. अपना सब कुछ न्योछावर करने के बावजूद भी अपेक्षित सफलता नहीं मिलती देख, उनकी सृजन क्षमता असमय दम तोड़ देती है. हालात ऐसे बन गए है, मानो हिंदी में छपे उपन्यास या कहानी पढ़ना पाठकों की मजबूरी है. जबकि अंग्रेजी की किताबें चाहे उनका कंटेंट उच्छ्रंख्ल ही क्यों ना हो, उन्हें पढ़ना युवाओं के बीच ‘पैशन’ या ‘स्टेटस सिम्बल’ बन गया है.

मेरे एक मित्र प्रबंधन में स्नातक कर गुड़गांव के एक प्रतिष्ठित बहुराष्ट्रीय कंपनी में कार्यरत हैं. मैं उनके घर जब भी जाता हूं, वे बड़ी शान से अंग्रेजी के ‘बेस्ट सेलर’ उपन्यासों को दिखाते हैं. ‘ये देखो- सलमान रश्दी का ‘मिडनाइटस चिल्ड्रेन’, चेतन भगत का ‘टू स्टेट्स’, ‘वन नाईट एट कॉल सेंटर’, रोबिन शर्मा का ‘द मौंक हू सेल हिज फेरारी’. … अरे हां, ये वाला तो दिखाया ही नहीं अमीश त्रिपाठी का ‘वायुपुत्राज’, हाल ही में आया है. क्या लिखता है बनारस का यह बंदा, मैं तो इसका फैन ही हो गया हूं.’ मैंने पूछा- ‘यार, एक बात बताओ हिंदी भाषी लोग भी अंग्रेजी साहित्य में ही मनोरंजन क्यों ढूंढते हैं. जबकि हिंदी लेखकों की इतनी सारी बेजोड़ किताबें बाजार में हैं कि पूरी जिंदगी में भी कोई उन्हें नहीं पढ़ पाए.’

तो उसने छूटते ही कहा- ‘भाई, सच कहूं तो मैं अंग्रेजी के नए-नए शब्दों की जानकारी के लिए इस तरह की पुस्तके पढ़ता हूं. क्योंकि जिस दफ्तर में हूं, वहां के सहकर्मियों पर प्रभाव जमाने के लिए जान-बूझकर अंग्रेजी झाड़नी पड़ती है. ‘ फिर उसने जो कुछ बताया वह निश्चय ही गहन मंथन का विषय बनता है. कहा- ‘जहां तक मैं समझता हूं, तीन कारणों से हिंदी प्रदेश के लोग अंग्रेजी की किताबें पढ़ते हैं. पहले वाले वे हैं जिन्हें अंग्रेजी की अच्छी समझ है, और खुद को एलिट दिखाने व बेड रूम की शोभा बढ़ाने के लिए ऐसी किताबे खरीदते हैं. दूसरा, वे जो मेडिकल, इंजीनियरिंग, प्रबंधन व अन्य तकनीकी विषयों के छात्र हैं. और अंग्रेजी भाषा सीखने, इस पर पकड़ बनाने के लिए पढ़ते है. तीसरा, वैसे लोग जिन्हें ना ठीक से हिंदी ही समझ में आती है ताकि साहित्य का रस्वादन कर सकें, ना ही अंग्रेजी.’ कहना चाहूंगा कि तीसरी तरह की पाठकों की संख्या सबसे ज्यादा है, जो महज दिखावे के लिए पढ़ते हैं.
  
इसके बावजूद भी चंद ऐसे सवाल हैं, जो हर हिंदी भाषी के जेहन में खटकते रहते है- क्या हिंदी में कंटेंट की कमी है, जिससे कि किताबें बाजार में जगह नहीं बना पातीं? या प्रकाशन संस्थानों की उदासीनता व लेखकों के शोषण करने की गंदी लॉबी आदि इसके जिम्मेवार हैं? जिसके तहत नई प्रतिभाओं को घुसने नहीं दिया जाता या उनकी रोयल्टी मार ली जाती है. या फिर साहित्य के मठाधीशों ने विद्वता का लबादा ओढ़ लेखन की भाषा को इतना क्लिष्ट व जटिल बना दिया है, जोकि आम पाठकों के पल्ले नहीं पड़ती. हो सकता इन सभी कारणों के साथ कुछ और भी दुश्वारियां इस राह में हों. कितना आश्चर्य होता यह जानकर कि चाईनीज भाषा में लिखने वाले उपन्यासकार को विश्व का सबसे प्रतिष्ठित ‘नोवल पुरस्कार’ मिल जाता है. …और कुछ दुःख भी कि विश्व की तीसरी बड़ी भाषा के रखवैया हम 50 करोड़ हिंदी वाले अभी तक उपेक्षित हैं.

क्या अब वह समय नहीं आ गया है, कि चिड़ियों, परियों, देश की कथा आदि छद्दं नामों से साहित्यिक उड़ान भर रहे, माकानाका की खोल में छुपे इन पंडों की लेखन शैली का भाषाई श्राद्ध करा दिया जाए? हिंदी लेखन में अरसे से चली आ रही भाषाई आडम्बर को दूर करने की दिशा में कोई ठोस कदम उठाई जाए? साथ ही इसे एक नया आयाम देते हुए कंटेंट को इतना सुगम व मनोरंजक बनाया जाए कि सबके जेहन में आसानी से रच-बस जाए? कुछ इस तरह कि विश्व के किसी भी कोने में रह रहा हिंदी भाषी युवक किताब को देखते ही लपक ले. जब अंग्रेजी में यह फंडा चल निकला है तो हिंदी में इसका प्रयोग क्यों नहीं हो? आखिर हम नए ज़माने के कलमची हैं और ‘जेन एम’ के लिए लिख रहे हैं.

आज के ग्लोबल दौर में पहनावा, खान-पान, बोल-चाल, कहें तो सब कुछ कॉकटेल हो चला है. तो फिर हम क्यों बाबा आदम के समय वाले थीम व भाषा को ढोएं. इतिहास की थोड़ी सी भी जानकारी रखने वाले इस तथ्य से अच्छी तरह मुखातिब होंगे कि जब भारत में ‘बौद्द धर्म’ का व्यापक प्रभुत्व बढ़ने लगा तो ब्राह्मणों ने हिन्दू धर्म का अस्तित्व बचाए रखने के लिए इसको बेहद सरल बना दिया. क्योंकि तब वक्त की यही मांग थी. इससे एक बड़ी सीख यह मिलती है कि समय के साथ जो नहीं बदलते वे गुमनामी की अथाह गर्त में खो जाते हैं.

एक बात पर गौर फ़रमाएंगे कि हिंदी लेखन को सरल बनाने की वकालत करने का मेरा मतलब भाषा के सस्तेपन नहीं, बल्कि नएपन से हैं. हिंदी साहित्य को कुछ ऐसा कंटेंट दें जो रोचकता की चाशनी में डूबे होने के साथ-साथ जमीन से भी जुड़ा हो. निरंतर प्रयास करने व नवीनता लाने से ही किसी चीज का ग्लैमर बढ़ता है. सूचना तकनीकी के तौर पर इन्टरनेट व सोशल साइट्स देवनागरी के लिए ‘भागीरथी वरदान हैं.’ जिनकी बदौलत आनेवाला वक्त हिंदी का ही होगा, इस संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता. वह दिन भी दूर नहीं जब पूरे संसार में हिंदी का डंका बजेगा. …और हम इसके साक्षी बनेंगे.

Admin

भोजपुरिया माटी में जन्म लिया. जब से होश संभाला लोगों को जड़ों से कटते पाया. वर्षों से पढ़ते-लिखते हुए यहीं सीखा, इंसान दुनिया में कहीं भी चला जाए. कितनी भी तरक्की कर ले. मां, मातृभाषा और मातृभूमि को त्याग कर खुशहाल नहीं रह सकता. इसीलिए अपनी भाषा में, अपने लोगों के लिए, अपनी बात लिखता हूं !

One thought on “…तो क्यों नहीं साहित्यिक पंडों की लेखन शैली का भाषाई श्राद्ध करा दें?

  • April 16, 2013 at 5:05 pm
    Permalink

    very good article.wish u all the best.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *